loading...

लोकसभा चुनाव के बीच कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और राज्य के पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह के एक बयान ने सूबे का सियासी पारा चढ़ा दिया है. दिग्विजय सिंह ने रामनवमी के दिन भोपाल के हमीदिया रोड स्थित राम मंदिर के लिए जमीन दान करने का ऐलान किया है.
दरअसल, शनिवार को भोपाल से लोकसभा चुनाव के लिए कांग्रेस प्रत्याशी दिग्विजय सिंह हमीदिया रोड पर बने राम मंदिर में भगवान राम के दर्शन करने पहुंचे थे. इस दौरान उन्होंने वहां भगवान राम की आरती भी की और इसके बाद ट्रस्ट के लोगों से मुलाकात की. इसी दौरान उन्होंने कहा कि भगवान राम के मंदिर के लिए हमारे कार्यकाल में ही यह भूमि दी गई थी. उन्होंने कहा कि मंदिर के सामने की जमीन जिला कांग्रेस कमेटी के भवन के लिए दी गई थी. कांग्रेस ने तय किया है कि राम मंदिर का प्रसार बढ़ते जा रहा है इसलिए मंदिर के सामने वाली जमीन भी हम राम मंदिर ट्रस्ट को स्थानांतरित कर देंगे. चूंकि लोकसभा चुनाव के चलते आचार संहिता लगी हुई है तो ऐसे में राम मंदिर के लिए जमीन देने के दिग्विजय सिंह के बयान पर राजनीति तेज हो गई है.

बीजेपी ने दिग्विजय सिंह के बयान के बाद कांग्रेस पर तंज कसा है. बीजेपी प्रवक्ता रजनीश अग्रवाल ने आरोप लगाया कि जमीन तो पहले से ही राम मंदिर के ट्रस्ट की है जिसपर कांग्रेस का कब्जा है. रजनीश अग्रवाल ने कहा कि राम मंदिर के ट्रस्ट के लोगों से जाकर पूछिए वो दशकों से लड़ाई लड़ रहे हैं. जमीन भगवान राम के नाम और मंदिर पर कब्जा करने की कोशिश कांग्रेस की. दिग्विजय सिंह बोलते हैं कि हम ज़मीन दान में देंगे लेकिन किसकी ज़मीन, कौन सी जमीन आप दे देंगे? ये बहानेबाजी आप छोड़िए.

loading...

सियासी सरगर्मी के बीच कांग्रेस ने दिग्विजय सिंह के बयान का समर्थन किया है. कांग्रेस प्रवक्ता अब्बास हफिज़ ने कहा कि बहुत पहले से ये मांग चली आई है. नगर निगम में भी जाकर कई बार डिमांड उठी है क्योंकि वहां पर जगह की किल्लत है और वो कोई विवादित भूमि भी नहीं है. राम मंदिर के जो महंत हैं उनकी ये मांग थी और इसलिए उन्होंने दिग्विजय सिंह को बुलाया और उनसे कहा कि मंदिर के सामने ज़िला कांग्रेस की जमीन है, अगर आप इसको मंदिर के लिए दान करवा सकते हैं तो करवा दीजिए. तो इस पर दिग्विजय सिंह ने एक जिम्मेदार जन नेता होने के कारण उस बात को माना है.

loading...