कर्नाटक में बैलेट पेपर से चुनाव हुआ और कांग्रेस एकतरफा जीत गई

कर्नाटक में बैलेट पेपर से चुनाव हुआ और कांग्रेस एकतरफा जीत गई

loading...

लोकसभा चुनाव में करारी हार के बाद कांग्रेस के लिए राहतभरी खबर आई है. दक्षिण भारत के राज्य कर्नाटक में कांग्रेस-जेडीएस की सरकार है. लेकिन लोकसभा चुनाव में कांग्रेस को करारी शिकस्त झेलनी पड़ी थी. राज्य की 25 सीटों में से कांग्रेस को सिर्फ एक सीट पर जीत मिली थी. वहीं बीजेपी को 25, जेडीएस को एक और एक सीट निर्दलीय के खाते में गई थी.
बैलेट पेपर से हुए निकाय चुनाव और जीत गई कांग्रेस
हाल ही में हुए शहरी स्थानीय निकाय चुनावों में कांग्रेस सबसे सफल पार्टी बनकर उभरी है. 20 जिलों की 1221 सीटों पर 29 मई को चुनाव हुए थे. कांग्रेस ने 509 सीटों पर जीत हासिल की है. बीजेपी को 366 और जेडीएस को 160 सीटों पर जीत मिली है. वहीं 160 सीटें निर्दलीयों के खाते में गई हैं. अगर अन्य पार्टियों की बात करें तो सीपीआई (एम) ने दो और बीएसपी ने तीन सीटें जीती हैं.
कांग्रेस और जेडीएस ने लोकसभा चुनाव गठबंधन में लड़ा था, लेकिन स्थानीय निकाय चुनावों में दोनों पार्टियों ने अलग-अलग किस्मत आजमाई थी. सात नगर परिषदों, 30 नगरपालिका परिषदों के 714 वार्डों और 19 नगर पंचायतों के 290 वार्डों पर चुनाव हुए थे.

राज्य में कुल 22 जिले की 63 नगर निकाय की 1,361 सीटें हैं. इनमें से 20 जिलों की 56 नगर निकाय में 1,221 सीटों पर चुनाव हुए. परिसीमन और आरक्षण को लेकर दो जिलों में कानूनी मामलों के लंबित होने के कारण बेंगलुरु ग्रामीण की 46 सीटों और मलनाड क्षेत्र में शिवमोग्गा की 94 सीटों के लिए मतदान नहीं हुए थे.
7 नगर परिषदों में 217 सीटों में से, कांग्रेस ने 90, भाजपा ने 56, जेडी (एस) ने 30, और निर्दलीय और अन्य ने 41 जीते.
30 नगरपालिका परिषदों की 714 सीटों में से कांग्रेस ने 322, भाजपा ने 184, जद (एस) ने 102 और निर्दलीय और अन्य ने 106 सीटें जीतीं.
19 नगर पंचायतों की 290 सीटों में से भाजपा ने 126, कांग्रेस ने 97, जद (एस) ने 34 और निर्दलीय ने 33 सीटें जीतीं.
इस जीत से उत्साहित कर्नाटक कांग्रेस के अध्यक्ष दिनेश गुंडु राव ने सवाल किया कि लोकसभा चुनावों में इतना अच्छा प्रदर्शन करने के बाद भाजपा कैसे हार गई. उन्होंने ट्वीट किया,
कांग्रेस ने Karnataka Urban Local Bodies Elections में 1221 में 509 सीटें जीती हैं. लगभग 42% सीटों पर जीत से यह साफ हो जाता है कि कर्नाटक की जनता कांग्रेस के साथ है. मुझे आश्चर्य है कि लोकसभा में भारी अंतर से जीतने के बाद बीजेपी कैसे हार गई. जांच की जरूरत है.
@INCIndia wins 509/1221 of the #KarnatakaUrbanLocalBodiesElections

loading...
Please follow and like us:
error0
loading...

Leave a Comment